jnu में नकाबपोश हमलावर, और चीखती चिल्लाती छात्राए, देखे वीडियो , जाने किसने क्या कहा।

ख़बर शेयर करें

दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में रविवार शाम जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष पर हमला हुआ है.

Ad - Bansal Jewellers

यह हमला जेएनयू कैंपस के भीतर हुआ. टीवी रिपोर्ट्स के अनुसार नकाबपोश हमलावरों ने कई हॉस्टलों में जाकर हमला किया.

चश्मदीदों का कहना है कि जेएनयू कैंपस में 50 से ज़्यादा लोग घुस आए, जिन्होंने डंडे और लाठियाँ ले रखी थीं. अधिकांश ने अपने चेहरे पर कपड़े बांधे हुए थे. कैंपस में दाख़िल होते ही इन लोगों ने छात्रों पर हमला शुरू कर दिया.

इस हमले में कई छात्र ज़ख़्मी हुए हैं. दिल्ली सरकार ने कहा है कि जेएनयू कैंपस में घायल हुए छात्रों के लिए सात एंबुलेंस मौक़े पर भेजी गई हैं. साथ ही दस और एंबुलेंस ज़रूरत पड़ने पर भेजे जाने के लिए तैयार कर ली गई हैं.

दिल्ली पुलिस ने जेएनयू के मेन गेट पर भारी पुलिस दल तैनात कर दिये हैं. उधर छात्रों के कुछ समूह आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर का घेराव करने के लिए पहुँच चुके हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने दिल्ली पुलिस के हवाले से कहा है कि जेएनयू कैंपस में फ़्लैग मार्च किया गया है और स्थिति नियंत्रण में है. वहीं, मानव संसाधन मंत्रालय ने जेएनयू रजिस्ट्रार से कैंपस की स्थिति पर तुरंत रिपोर्ट मांगी है.

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्वीट किया है, “जेएनयू में जो हुआ उसकी तस्वीरें देखीं. स्पष्ट रूप से हिंसा की निंदा करते हैं. यह पूरी तरह से विश्वविद्यालय की संस्कृति और परंपरा के ख़िलाफ़ है.”

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : कोरोना के नए वेरिएंट लेकर राज्य सरकार मुस्तैद.. CM धामी ने लिया ये फैसला

एस. जयशंकर जेएनयू के पूर्व छात्र भी हैं. वहीं, हिंसक घटना के बाद जेएनयू के बाहर पहुंचे स्वराज पार्टी के नेता योगेंद्र यादव के साथ खींचतान की गई.

घटना का वीडियो

समाचार एजेंसी एएनआई ने हमलावरों का एक वीडियो जारी किया है. एजेंसी के अनुसार जब ये भीड़ एक हॉस्टल में घुसी तो छात्राओं को कहते सुना गया कि ‘ये क्या हो रहा है? आप कौन लोग हैं? हॉस्टल से बाहर जाएं? क्या तुम हमें धमकाने आये हो.’ इस वीडियो में छात्रों को नारे लगाते सुना जा सकता है: ‘एबीवीपी गो बैक’.

जेएनयू के छात्रों का कहना है कि इन हमलावरों ने कैंपस में खड़ी कारें भी तोड़ी हैं.

जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष ऐशी घोष का जो वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है, उसमें उन्हें कहते सुना जा सकता है कि ‘मेरे ऊपर बर्बर तरीक़े से हमला हुआ है. हमलावर नकाबपोश थे. देखिए कैसे ख़ून निकल रहा है. मुझे बुरी तरह से मारा गया है.’

एक-दूसरे पर आरोप

जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष मोहित कुमार पांडे ने फ़ेसुबक पर अपनी पोस्ट में इस हमले का इल्ज़ाम भारतीय जनता पार्टी की छात्र ईकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पर लगाया है.

जेएनयू छात्र संघ ने भी कहा है कि ‘इस हमले के पीछे एबीवीपी के गुंडों का हाथ है’. उनका दावा है कि एबीवीपी जेएनयू ने ना सिर्फ़ छात्रों, बल्कि प्रोफ़ेसरों पर भी हमला किया.

यह भी पढ़ें 👉  BIG NEWS : केदारनाथ में शुरू हुई सीज़न की पहली बर्फबारी ..देखिये video

वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने प्रेस रिलीज़ जारी कर ये दावा किया है कि इस हमले के पीछे लेफ़्ट विचारधारा वाले संगठनों (SFI, AISA और DSF) का हाथ है. एबीवीपी ने दावा किया है कि उनके संगठन के क़रीब 25 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं और 11 छात्रों को मामूली चोटें आई हैं.

इस घटना पर समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए दिल्ली पुलिस ने कहा है, “दो गुटों के बीच बीते दो दिनों से तनाव था. जेएनयू प्रशासन की अनुमति के बाद आज दिल्ली पुलिस कैंपस के भीतर गई है.”

सोशल मीडिया पर जेएनयू के छात्रों ने जो तस्वीरें शेयर की हैं, उन्हें देखकर हॉस्टलों में हुई तोड़फोड़ का अंदाज़ा लगता है.

किसने क्या कहा?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस हमले की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया है, ‘जेएनयू में हिंसा की ख़बर सुनकर हैरान हूँ. छात्रों पर बर्बर हमला किया गया. पुलिस को तुरंत इस हिंसा को रोकना चाहिए और शांति बहाल होनी चाहिए. यह देश आगे कैसे बढ़ेगा अगर छात्रों को उनके यूनिवर्सिटी कैंपस में भी सुरक्षित नहीं रखा गया.’

दिल्ली के लेफ़्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल ने भी कैंपस के भीतर हुई हिंसा की निंदा की है.

यह भी पढ़ें 👉  यहां ड्यूटी पर नदारद चल रहे 6 कांस्टेबलों पर गिरी गाज.. SP ने किया लाइनहाजिर

उन्होंने ट्वीट किया है, “छात्रों और प्राध्यापकों के साथ हिंसा निंदनीय है. मैंने दिल्ली पुलिस को आदेश दिया है कि वो सभी संभव प्रयास करें और जेएनयू प्रशासन के साथ मिलकर स्थिति पर नियंत्रण बनाएं. जो लोग हिंसा के पीछे हैं उनके ख़िलाफ़ कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो.”

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, “जेएनयू में नकाबपोश हमलावरों का हमला, छात्रों और टीचरों को पीटा जाना, हैरान करने वाला है. सत्ता में बैठे फासीवादी लोग बहादुर छात्रों से घबरा गए हैं. आज की हिंसा उनके डर का प्रतिबिंब है.”

भारत के पूर्व गृहमंत्री पी चिंदबरम ने कहा है कि जेएनयू जैसी यूनिवर्सिटी में इतनी बड़ी संख्या में नकाबपोश घुसते हैं और छात्रों पर हमला बोलते हैं. पुलिस क्या कर रही है? दिल्ली के पुलिस कमिश्नर कहाँ हैं?

सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी ने छात्र संघ अध्यक्ष ऐशी घोष का वीडियो ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, “ये वीडियो बताता है कि आरएसएस और बीजेपी इस देश को क्या बनाना चाहते हैं. पर हम उन्हें यह करने नहीं देंगे.”

उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है, “JNU में जिस तरह नक़ाबपोश अपराधियों ने छात्रों और अध्यापकों पर हिंसक हमला किया है वो बेहद निंदनीय है. इस विषय में तत्काल उच्च स्तरीय न्यायिक जाँच होनी चाहिए

Elinterio Web AD
kulsum-mall-ad
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments