चम्पावत : पानी के सैलाब में अब चल्थी पुल भी नदी में समाया, कई गांव जलमग्न,भारी तबाही,इतने शव बरामद

ख़बर शेयर करें

चम्पावत दो दिनों से उत्तराखंड में घनघोर बारिश ने भीषण तबाही मचाई है जिसकी वजह से पहाड़ों पर कई जगह भू स्खनल हुआ है कई रास्ते बंद हो चुके है और कुछ लोगों की मलबे में दब जाने के कारण मौत भी हो चुकी है आज खबर लिखने तक बारिश का कहर जारी है ।

Ad - Bansal Jewellers

चम्पावत के नागनाथ वार्ड के अंतर्गत आने वाले सेलाखोला के रोपा क्षेत्र में एक मकान में अचानक मलवा आ जाने से वहां एक महिला और उसका बेटा मलवे चपेट में आ गया। जिससे उन दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस एसएसबी, (SDRF) जवानों की मदद से कड़ी मशक्कत के बाद शवों को बाहर निकाला जा सका।

टनकपुर से चंपावत को जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार् पर चल्थी का पुल भी क्षतिग्रस्त हो गया है और टनकपुर में कई गाँव जलमग्न हो चुके है प्रशासन की टीम के द्वारा राहत एवं बचाव कार्य जारी है ।

जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार रविवार शाम करीब छह बजे से शुरू हुआ बारिश का दौर सोमवार दिन भर जारी रहा । लगातार हो रही तेज बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। प्रशासन ने बताया कि स्वाला के समीप सुबह छह बजे पांच स्थानों पर मलबा गिर गया। मरोड़ाखान, भारतोली, बसान, च्यूरानी, लीसा डिपो, खोल्का और सूखीढांग में एक-एक स्थान पर भारी मात्रा में मलबा गिर गया। इसके अलावा चल्थी में बनाया गया डायवर्जन पूरी तरह से तबाह हो गया और चल्थी का पुल टूट कर बह गया ।

यह भी पढ़ें 👉  BIG NEWS(सावधान) : ओमिक्रोन कोरोना के नए वेरिएंट की देश में हुई एंट्री.. यहां हुई 2 मामलों की पुष्टि

लगातार हो रही तेज बारिश से एनएच से मलबा हटाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है साथ ही पहाड़ी से लगातार मलबा और पत्थर गिर रहे हैं। इस वजह से यहां सड़क खोलना खतरे से खाली नहीं है। इधर भारी बारिश से जिले में व्यापक नुकसान हुआ। कई स्थानों पर रास्ते, दीवारें और खेत पूरी तरह से टूट गए हैं।

दो दिनों से उत्तराखंड में घनघोर बारिश ने भीषण तबाही मचाई है जिसकी वजह से पहाड़ों पर कई जगह भू स्खनल हुआ है कई रास्ते बंद हो चुके है और कुछ लोगों की मलबे में दब जाने के कारण मौत भी हो चुकी है आज खबर लिखने तक बारिश का कहर जारी है ।


थाना पुलिस,एसटीआरएफ, आपदा प्रबंधन पुलिस टीम के द्वारा भारी वर्षा के दौरान कल्सिया नाले के पास, फतेहपुर मुखानी, गोला नदी बनभूलपुरा, इन्द्रानगर गोला लालकुआं, करकट नाला कालाढूंगी,पूछड़ी सुंदरखाल,पनोद धनगढ़ी रामनगर, शेर नाला चोरगलिया, चोपड़ा मल्लीताल,खैरना क्वारब भवाली,खुटानी बैंड, हनुमान गढ़ी भीमताल,दोसा पानी मुक्तेश्वर, पत्थर एवं नारायण नगर के बीच, भाखड़ा नदी के पास, आदि क्षेत्र में फसे कुल 915 लोगों/यात्री/ वाहनों को ऑपरेशन रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया जिनके खाने-पीने और रहने की पूर्ण व्यवस्था जनपद पुलिस द्वारा की गई। इसके अतिरिक्त कुल मलबे मैं दवे कुल 17 शवों को पुलिस टीम के द्वारा ऑपरेशन रेस्क्यू कर शवों को निकाला गया श्रीमती प्रीति प्रियदर्शिनी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल द्वारा स्वयं मौके पर आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में जाकर लगातार बचाव एवं राहत कार्य तथा अवरूद्ध मार्ग को खुलवाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उप्र में शुरू हुआ सियासी संग्राम.. बिछने लगी बिसात.. अमित शाह, योगी, प्रियंका और अखिलेश यादव की यहाँ रैली...

जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार रविवार शाम करीब छह बजे से शुरू हुआ बारिश का दौर सोमवार दिन भर जारी रहा । लगातार हो रही तेज बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। प्रशासन ने बताया कि स्वाला के समीप सुबह छह बजे पांच स्थानों पर मलबा गिर गया। मरोड़ाखान, भारतोली, बसान, च्यूरानी, लीसा डिपो, खोल्का और सूखीढांग में एक-एक स्थान पर भारी मात्रा में मलबा गिर गया। इसके अलावा चल्थी में बनाया गया डायवर्जन पूरी तरह से तबाह हो गया और चल्थी का पुल टूट कर बह गया । लगातार हो रही तेज बारिश से एनएच से मलबा हटाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है साथ ही पहाड़ी से लगातार मलबा और पत्थर गिर रहे हैं। इस वजह से यहां सड़क खोलना खतरे से खाली नहीं है। इधर भारी बारिश से जिले में व्यापक नुकसान हुआ। कई स्थानों पर रास्ते, दीवारें और खेत पूरी तरह से मलबे के साथ बह गये हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बेहद दुःखद : आतंकवादी विरोधी ऑपरेशन में उत्तराखंड का जवान नागालैंड में हुआ शहीद..

वहीं दूसरी ओर जनपद नैनीताल में प्रशासन युद्धस्तर पर ज़रूरत मुहैय्या करवा रहा है
लगातार अत्यधिक वर्षा के दृष्टिगत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल द्वारा समस्त थानों में आपदा प्रबंधन टीम एवं एसटीआरएफ को मय आपदा उपकरणों के तत्काल आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में फंसे यात्री एवं वाहनों तथा नदी, नालो के किनारे बसे झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों को तत्काल दिनांक 18-10-2021की रात्रि से सकुशल निकालने हेतु ऑपरेशन रेस्क्यु चलाया गया।


थाना पुलिस,एसटीआरएफ, आपदा प्रबंधन पुलिस टीम के द्वारा भारी वर्षा के दौरान कल्सिया नाले के पास, फतेहपुर मुखानी, गोला नदी बनभूलपुरा, इन्द्रानगर गोला लालकुआं, करकट नाला कालाढूंगी,पूछड़ी सुंदरखाल,पनोद धनगढ़ी रामनगर, शेर नाला चोरगलिया, चोपड़ा मल्लीताल,खैरना क्वारब भवाली,खुटानी बैंड, हनुमान गढ़ी भीमताल,दोसा पानी मुक्तेश्वर, पत्थर एवं नारायण नगर के बीच, भाखड़ा नदी के पास, आदि क्षेत्र में फसे कुल 915 लोगों/यात्री/ वाहनों को ऑपरेशन रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया जिनके खाने-पीने और रहने की पूर्ण व्यवस्था जनपद पुलिस द्वारा की गई। इसके अतिरिक्त कुल मलबे मैं दवे कुल 17 शवों को पुलिस टीम के द्वारा ऑपरेशन रेस्क्यू कर शवों को निकाला गया श्रीमती प्रीति प्रियदर्शिनी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल द्वारा स्वयं मौके पर आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में जाकर लगातार बचाव एवं राहत कार्य तथा अवरूद्ध मार्ग को खुलवाया जा रहा है।

Elinterio Web AD
kulsum-mall-ad
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 Join our WhatsApp Group

👉 Subscribe our YouTube Channel

👉 Like our Facebook Page

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments